Disable Preloader

ITI Electrician

दोस्तों Electrician को हिंदी में विद्युतकार कहा जाता है | Electrician ITI की एक Trade / Course है जिसमें दो वर्षों की traning होती है | इन दो वर्षों की ट्रेनिंग के दौरान प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले ट्रेनी बिजली से जुड़े कई कार्यों को कर सकता है |कई देशो में विद्युतकार को इलेक्ट्रिकल टेक्नीशियन कहा जाता है | एक इलेक्ट्रीशियन बिजली से चलने वाली मशीन का मास्टर माना जाता है | हमारे दैनिक जीवन में उपयोग आने वाली सम्बन्धित सभी उपकरण , मचिन तथा वैद्युतिक वायरिंग की मरम्मत करने वाला व्यक्ति ही इलेक्ट्रीशियन कहलाता है | घरेलु विद्युत उपकरण जैसे कूलर , मिक्सर , ग्राइंडर , फ्रिज , पंखा , मोटर , जनरेटर ,फ्यूज आदि को रिपेयर करने का काम इलेक्ट्रीशियन का ही होता है | आज के समय में शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति होगा जो बजली या बिजली से चलने वाले उपकरणों का उपयोग न करता हो | इसी चीज़ Electrician in Hindi पर गौर करते हुए यदि आप सोचे तो इस ट्रेड या कोर्स का भविष्य कितना सुनहरा होगा इसकी कल्पना आप अच्छे से कर सकते है | क्यूंकि यह ऐसा फील्ड है जिसकी जरुरत पूर्ण जीवन बनी रहती है |

ITI Electrician Full Details

इस कोर्स को करने के लिए आपके पास किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10 वीं उर्तीण की अंकसूची होना अनिवार्य है | इसी के साथ ही प्रवेश के लिए आपके पास निम्न दस्तावेज का होना आवश्यक है -

  • मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10वीं. उर्तीण
  • जाती प्रमाण पत्र ( यदि लागू हो तो )
  • स्थानीय मूल निवासी प्रमाण पत्र 
  • स्थानांतरण प्रमाण पत्र ( TC )
  • पासपोर्ट साइज़ फोटो आदि |

प्रवेश की प्रक्रिया प्रति वर्ष जुलाई - अगस्त माह में शुरू होती है | किसी भी प्राइवेट ( निजी ) आईटीआई में प्रवेश के लिए आपको अपने मूल दस्तावेज लेकर उपस्थित होना होता है | जहाँ आपसे दो वर्षों का कुछ शैक्षणिक शुल्क लेकर दस्तावेज पूर्ण और सही होने पर प्रवेश दे दिया जाता है | लिए जाने वाला शैक्षणिक शुल्क प्रत्येक संस्था अपने अनुसार अलग - अलग लेती है

नोट - किसी भी प्राइवेट आईटीआई में प्रवेश से पूर्ण उस आईटीआई की मान्यता , पिछले रिजल्ट , आईटीआई कैंपस , पूर्ण शिक्षक , शैक्षणिक शुल्क आदि बातों को ध्यान में रखते हुए लेना चाहिए | क्यूंकि वर्तमान में अधिकतर प्राइवेट आईटीआई में केवल एडमिशन प्रक्रिया पूरी ईमानदारी से होती है जबकि उनके द्वारा दी जाने वाली ट्रेनिंग केवल एक कल्पना होती है| 

यदि आपके नजदीक एरिया में कोई सरकारी आईटीआई हे तो आपको पहले सरकारी आईटीआई में प्रवेश को प्राथमिकता देनी चाहिए यहाँ आपसे किसी भी प्रकार का कोई शैक्षणिक शुल्क नही लिया जाता है | सरकारी आईटीआई में प्रवेश के लिए आपको आवेदन करना होता होता है जिसके बाद तीन बार काउन्सलिंग प्रक्रिया होती है |  जिसमें आपकी अंकसूची के प्रतिशत के अनुसार आपको प्रवेश दिया जाता है | साथ ही इसमें ट्रेड में प्रत्येक वर्ग के लिए शीट आरक्षित होती है जिसके अनुसार भी प्रवेश मिलता है| 

 

ITI Electrician Syllabus in Hindi

Electrician in Hindi के इस पोस्ट में हम आपको आईटीआई इलेक्ट्रीशियन के विषय के बारे में बता देते है की आईटीआई इलेक्ट्रीशियन में कौन कौन से subject आपको पढना होंगे |

आईटीआई इलेक्ट्रीशियन में कुल विषयों की संख्या 5 है -

  1. इलेक्ट्रीशियन ट्रेड थ्योरी 
  2. इलेक्ट्रीशियन ट्रेड प्रैक्टिकल 
  3. इंजीनियरिंग ड्राइंग 
  4. वर्कशॉप कैलकुलेशन एंड साइंस 
  5. एम्प्लोयाबिलिटी स्किल 

ITI Electrician में कौन कौन से Subject है 

आइये जान लेते है आईटीआई इलेक्ट्रीशियन में कौन कौन से Subject है -

1. Electrician Trade Theory -

यह ITI करने वाले Students के लिए सबसे महत्वपूर्ण विषय होता हे जिसके द्वारा Electrician Trade मे उसे कौन कौन सा काम करना हे और किसी तरह से करना हे की जानाकरी मिलती हे इस विषय मे लिखें गए सिद्धांतो एवं नियम के द्वारा वह विद्युत संबधित बड़े बड़े कामों को आसानी से कर सकता हे | इस विषय के ज्ञान के बिना कोई भी Student Electrician नहीं बन सकता |

2. Electrician Trade Practical -

इस विषय मे आपके द्वारा Trade Theory मे पढ़े गए सिंद्धांत एवं नियम से किसी कार्य को करके देखना होता हे |विद्युत सम्बंधित जो भी कार्य होते हे जैसे - घरेलु एवं औद्योगिक वायरिंग ,पंखा एवं Motor Rewinding , वायरिंग फाल्ट ढूंढ़ना , घरेलु विद्युत उपसाधन जैसे कूलर ,मिक्सर ,गीजर ,प्रेस ,फ्रीज ,ओवन ,Water Pump आदि की मरम्मत करना जैसे काम सीखना ट्रेड प्रैक्टिकल मे होता हे |

3. Workshop calculation & science -

इस विषय मे नार्मल गणित आपको सीखना होता हे जिसका उपयोग आपके बिजली बिल की गणना करने ,Supply मे voltage, Current ,power,  मोटर की चाल तथा अन्य विद्युत संबधित कैलकुलेशन मे किया जाता हे ताकि इससे यह निर्धारित किया जा सके की किसी मशीन को सप्लाई से जोड़ने पर वह जलेगी या चलेगी ????|

4. Engineering Drawing -

यह विषय एक प्रकार की भाषा होती हे जिसका उपयोग Electrician किसी भी कार्य को करने से पहले करता हे | इस विषय मे किसी भी कार्य की योजना कागज अथवा ड्राइंग शीट पर लाइन खींचकर तैयार की जाती हे जिससे यह सुनिचित हो जाता हे की उस कार्य मे कितनी सामग्री ,जगह ,उसकी बनावट तथा खर्चा होने वाला हे | Drawing Sheet के माध्यम से यदि कोई Electrician काम करता हे तो वह कभी भी गलत Connection नहीं करेगा |

5. Employability Skill -

यह विषय प्रशिक्षण के दौरान किसी Tranee या Student को अनुशाशन मे रहना , सही तरीके से बात करना समय से आना समय से जाना जैसी बातो का ज्ञान करता हे तथा प्रशिक्षण के बाद Job के लिए योजना बनाना ,रेज्यूम तैयार करना ,इंटरवयू के लिए पहनावा तथा बातचीत के तरीके को सिखाता हे इस विषय मे General English तथा Basic Computer जैसी बाते भी शामिल होती हे जो Job के समय हमें अपने काम मे रूचि बनाये रखने मे सहयोग करती हे |

आईटीआई इलेक्ट्रीशियन प्राइवेट और सरकारी नौकरी 

आईटीआई Electrician से ट्रेनिंग पूर्ण करने के पश्चात आप निम्न जॉब या स्वयं का रोजगार प्रारंभ कर सकते है -

  • भारतीय रेलवे में 
  • राज्य के बिजली बोर्ड एवं विभागों में 
  • विद्युत् उत्पादन केद्र में 
  • विद्युत् संचारण लाइन में 
  • विद्युत् वितरण लाइन में 
  • भारत सरकार के लिए कार्य करने वाली कंपनियों में 
  • ट्रांसफार्मर बनाने वाली कंपनी में 
  • प्राइवेट कंपनियों में 
  • स्वयं का रोजगार शुरू कर सकते है 
  • होम इलेक्ट्रीशियन सर्विस में 
  • मोटर ,फेन , जनरेटर रीवाइंडिंग शॉप पर 
  • बिजली फिटिंग 
  • इलेक्ट्रिकल एक्सेसरीज शॉप आदि 

 

Share:

Tags: Law, Juggement, lawyer, Cases

Leave a Comment